व्यंग्य-विनोद : शास्त्र से लोक तक

भूमिका
वंदे हास्यरसम
व्यंग्य-विनोद शास्त्र से लोक तक
समय की देन हूं मैं
कहां लौं कहिए ब्रज की बात
राष्ट्रवाणी
हिन्दी चले तो कैसे चले
आपुन मुख हम आपुन करनी
यह विस्फोट अहम्‌ का है
तो सुनो मेरी कहानी
ओम शान्ति !
  1. उपहसित - इसमें नथुने फूल जाते हैं। सिर और कंधे सिकुड़ जाते हैं तथा दृष्टि कुछ वक्र हो जाती है। यह भी मध्यम श्रेणी के लोगों के योग्य होता है।
  2. अपहसित -यह हास अधम कोटि का माना जाता है। इसमें हंसते-हंसते आंखों में पानी आ जाता है। सिर और कंधे स्पष्ट रूप में हिलने लगते हैं तथा हंसते-हंसते मनुष्य पेट पकड़ लेता है।
  3. अतिहसित - इसे भी अधम कोटि का हास माना गया है। इसमें हास्य के सारे लक्षण और परिणाम बहुत ही स्पष्ट होते हैं। इसे अट्टहास भी कह सकते हैं।

संस्कृत-नाट्यशास्त्रों में हास्य की अभिनय योग्य दृष्टि को 'हास्या' कहते हैं। संस्कृत नाटकों में तो हास्य सोने में सुहागे के समान है। प्रायः सभी संस्कृत नाटककारों ने एक ऐसे मनोरंजक पात्र की कल्पना की है जिसकी परंपरा बाद के हिन्दी-नाटकों और लोक-लीलाओं में आज तक अक्षुण्ण रूप से विद्यमान है।

पृष्ठ-5

| कॉपीराइट © 2007: हिन्दी भवन, नई दिल्ली |
1    2    3    4   5    6    7   8    9    10    11    12    13
   | वेब निर्माण टीमः हैश नेटवर्क |